Followers

Tuesday, April 6, 2010

दिल्ली - 6 नगर - दिल्ली से दूर मगर एहसास होगा दिल्ली में होने का

 डी आर एस ग्रुप के नाम से जाना जाने वाला अग्रवाल पैकर्स एंड मूवर्स प्राईवेट लिमिटेड पिछले कई वर्षों से पुनर्वास एवं रसद व्यापार में संलग्न है । इस व्यापार में अग्रणी डी आर एस ग्रुप ने अब आतिथ्य के क्षेत्र में भी अपने कदम रख दिए हैं और इसी दिशा में देश के प्रमुख दिल्ली - जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 8 पर धारूहेडा के निकट " दिल्ली - 6 रेस्टोरेंट एंड रेकरेशन " के नाम से एक रिवाल्विंग रेस्टोरेंट तथा रिजोर्ट का शुभारम्भ किया जा रहा है । जिसकी थीम है ’ दिल्ली अवे फ्रोम दिल्ली ’ । डी आर एस ग्रुप की योजना  देश के प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्गों पर ऎसे लगभग 9 रेस्टोरेंट खोले जाने की है । इसी कडी में पहला यह रिजोर्ट दिल्ली से 81 किमी . दूर जयपुर जाते समय रास्ते में धारूहेडा के समीप खोला गया है । जबकि दूसरा पलवल के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग - 2 पर खोला जाना प्रस्तावित है ।


डी आर एस ग्रुप के चेयरमेन श्री रमेश अग्रवाल के अनुसार एक ओर जहां हरियाणा पर्यटन विकास निगम राज्य में पर्यटन के विकास पर पुरजोर ध्यान देते हुए राज्य की विरासत स्थलों की रक्षा करने के प्रयास में जुटा है , वहीं हमारा भी यही उद्देश्य है कि दिल्ली - 6 के माध्यम से हरियाणा में पर्यटन के विकास को नई दिशा प्रदान की जाए ।
आगामी अक्तूबर माह में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स को देखते हुए दिल्ली - जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप स्थित यह ’दिल्ली - 6 नगर ” में ऎसी मनोरंजक व्यवस्था की गईं हैं कि देश - विदेश के पर्यटक भारत की राजधानी दिल्ली में आकर कॉमनवेल्थ गेम्स का तो लुत्फ लें ही , साथ ही घूमने फिरने के इरादे से इस रिजोर्ट में आएं और पूरी मौज मस्ती करें तथा यहां के हंसीन लम्हे अपने साथ ले जाएं । इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए ” दिल्ली - 6 नगर ” में रहने के लिए 22 सुसज्जित कमरों की व्यवस्था की जा रही है जो  सितंबर यानि  कॉमनवेल्थ गेम्स के शुरू होने से पहले बनकर तैयार हो जाएंगे । इसके अलावा खान - पान के मामले में पुरानी दिल्ली की लोकप्रियता का विशेष ख्याल रखते हुए एक तरह से चांदनी चौक को यहां बसाने का प्रयास किया गया है ।दिल्ली के चांदनी चौक में प्रतिदिन हजारों पर्यटक आते हैं । खान - पान के शौकीन लोगों की यह बेहद पसंदीदा जगह है । चांदनी चौक में कई मशहूर दुकाने हैं जैसे - घंटेवाला हलवाई , नटराज के दही - भल्ले , कंवर जी , भागीरथमल , दालबिजी वाला , परांठे वाली गली व कुल्फी - फलूदा आदि काफी चटकारे लेने वाले आइटम हैं।  इन सभी चीजों को यहां विशेष तौर पर रखा गया है । वास्तव में दिल्ली - 6 नगर की रूपरेखा गहन विश्लेषण व जानकारी जुटाने बाद तय की गई है । खान - पान ही नहीं यहां दिल्ली के मीना बाजार व किनारी बाजार की शॉपिंग का भी आन्नद उठाया जा सकता है ।

श्री अग्रवाल ने जोर देते हुए बताया कि यहां मनोरंजन की सारी व्यवस्थाएं बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को ध्यान में रखते हुए की गई हैं । मसलन यहां १२ वर्ष से लेकर ६० वर्ष तक की आयु वर्ग के लोग अपने मनचाहे तरीके से खूब जमकर मस्ती कर सकेंगे । उन्होंने कहा कि हमारा पूरा प्रयास है कि देश - विदेश के पर्यटक ”दिल्ली 6 नगर ” में आएं और भरपूर मनोरंजन का लुत्फ उठाकर यहां से टेंशन फ्री होकर जाएं । उन्होंने इसकी थीम ”दिल्ली अवे फ्रोम दिल्ली ” के बारे में बताया कि  यहां घूमने आए लोगों को दिल्ली से दूर होते हुए भी यहां दिल्ली में होने का एहसास होगा ।

2 comments:

सुलभ § सतरंगी said...

विस्तृत जानकारी के लिए शुक्रिया. आजकल इसी राजमार्ग(धारुहेरा) से आना जाना होता है. श्री अग्रवाल से "राष्ट्रीय कवि संगम २-३ जन्वरि२०१०" के मौके पर मुलाक़ात हुई थी.

पुरानी दिल्ली की खुशबू इस प्रकार फैले की सभी पर्यटकों के लिए यादगार बन जाये.

M VERMA said...

आपने विस्तार से जानकारी दी.
शुक्रिया