Followers

Tuesday, September 21, 2010

''शीतल उड़ी मस्त गगन में''


  आसमान में पंछियों को उड़ते देख हर कोई सपने देखने लगता है कि वह भी पंछियों की तरह उन्मुक्त होकर आसमान की सैर करे । ठीक ऎसा ही सपना पुणे की शीतल महाजन ने देखा था जिसे उसने 19सितंबर रविवार को पूरा कर दिखाया । हालांकि शीतल महाजन के नाम पहले भी कई रिकॉर्ड कायम है, लेकिन उन्होंने अब एक नया रिकॉर्ड बनाया है. ''बर्ड मैन'' सूट के साथ १३००० फीट की ऊचाई से एक विमान से कूदने का.
१९ सितम्बर को स्पेन में भारतीय समय के मुताबिक शाम के 8 बजे शीतल ''बर्ड मैन'' सूट के साथ १३००० फीट की ऊचाई से विमान से कूदी और फिर वह ४००० फीट तक पंखों के साथ एक चिड़िया की तरह उड़ी और बाद में फिर उन्होंने पैराशूट खोल कर सामान्य लैंडिंग की.
इस तरह विंग सूट (बर्ड मैन) पहन कर एक पक्षी की तरह उड़ना एक बहुत बड़ी उपलब्धि है किसी भी भारतीय महिला के लिए. आज से पहले किसी भी भारतीय ने ऐसी जम्प नही की. शीतल के लिए तो यह एक नया रिकॉर्ड है ही और भारत के लिए भी यह राष्ट्रीय रिकॉर्ड है.
शीतल से जब उनकी इस उपलब्धि के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि, ''बहुत ही अच्छा व अलग सा अहसास है यह मेरे लिए, कैसे एक पक्षी आसमान में उड़ता है अब मुझे इसका अहसास है, मुझे बहुत ही ख़ुशी है कि मै यह सब कर सकी.
हालाँकि मैंने पहले भी पैराशूट से १८ अप्रैल २००४ में २४०० फीट से ३७ डिग्री सेल्सियस में उत्तरी ध्रुव पर बिना प्रशिक्षण जम्प की थी. फिर उसके बाद १६ दिसंबर २००६ अंटार्कटिका महाद्वीप पर ३८ डिग्री सेल्सियस में ११६०० फीट से जम्प की थी. लेकिन खुले आकाश में पक्षी की तरह उड़ना एक अलग ही तरह की ख़ुशी है.''
इस भारतीय महिला को उनकी इस महान उपलब्धि के लिए बहुत - बहुत शुभकामनाएं । साथ ही जोखिम भरी चुनौती को हंसते - हंसते साहस के साथ पूरी करने वाले उनके जज्बे को हम सलाम ठोंकते हैं क्योंकि शीतल ने इस जोखिम भरी उड़ान के साथ आसमान में कलाबाजियां खाकर भारतीय महिलाओं का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है । 

3 comments:

इमरान अंसारी said...

मेरी तरफ से शीतल को एक सैल्यूट और एक आपको |

विवेक Call me Vish !! said...

मै भी उड़ना चाहता हूँ,
बस एक आसमा की ज़रूरत है.
मुझे भी कुछ पाना है ,
बस एक सपने की ज़रूरत है.
मंजिल है मेरी वह,
बस एक रस्ते की ज़रूरत है.

मुझे बस एक जिंदगी की ज़रूरत है .......!

जय हो मंगलमय हो

M VERMA said...

इस उपलब्धि को नमन ..
बहुत खूब